दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय,
भारत सरकार

मुख पृष्ठ >> योजनाएं >> जागरुकता सृजन और प्रचार >> उद्देश्य

उद्देश्य

उद्देश्य

  • विकलांग व्यक्तियों के कल्याण हेतु, उनके सामाजिक, आर्थिक और शैक्षिक सशक्तिकरण सहित, विकलांगजन सशक्तिकरण विभाग और अन्य केन्द्रीय मंत्रालयों, राज्य सरकारों आदि द्वारा चलाई जा रही योजनाओं, कार्यक्रमों का इलैक्ट्रानिक, प्रिंट, फिल्म मीडिया, मल्टी मीडिया के माध्यम से, आयोजन आधारित प्रचार आदि सहित, व्यापक प्रचार करना।
  • विकलांग व्यक्तियों को समान अवसर, समदृष्टि और सामाजिक न्याय मुहैया कराके और उन में विश्वास निर्माण करके  जीवन के सभी क्षेत्रों में विकलांग व्यक्तियों के सामाजिक समावेशन हेतु सक्षम माहौल सृजित करना ताकि वे अपनी आकांक्षाओं को पूरा कर सकें।
  • विकलांग व्यक्तियों के वैधानिक अधिकारों के संबंध में संविधान, अंतर्राष्ट्रीय कन्वैंशनों, विकलांग व्यक्ति अधिनियम, 1995 और अधीनस्थ विधान/विधानों में अंतर्निहित जानकारी को विकलांग व्यक्तियों और सिविल समाज सहित स्टेक होल्डर्स की जानकारी में लाना।
  • विशेष तौर पर सक्षम व्यक्तियों की आवश्यकताओं पर नियोजकों और अन्य इसी तरह के समूहों को सुग्राही बनाना।
  • विकलांगता होने के कारणों और शीघ्र पहचान करने आदि के तहत बचाव करने पर दूर-दराज और ग्रामीण क्षेत्रों पर ध्यान केन्द्रित करने के साथ समाज में जागरूक बढ़ाना और सुग्राही बनाना।
  • विकलांग व्यक्तियों हेतु वैधानिक प्रावधानों और उनके लिये कल्याणकारी योजनाओं का  प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित करने हेतु स्वैच्छिक कार्रवाई प्रोत्साहित करना।
  • विभिन्न प्रकार की विकलांगताओं के पुनर्वासन हेतु सामग्री तैयार करना।
  • हैल्पलाईनसहेतु वित्तीय सहायता मुहैया कराना।
  • प्रभावी शिकायत उन्मूलन वित्तीय सहायता मुहैया कराना।
  • विकलांगताओं पर प्रतिष्ठित संगठनों द्वारा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय आयोजनों हेतु वित्तीय सहायता मुहैया कराना।
  • विकलांग व्यक्तियों के मनोरंजन हेतु सुविधायें सृजित करना अथवा सृजित करने हेतु सहायता प्रदान करना। इनमें अन्यों के साथ पर्यटन, शैक्षिक, चिकित्सा धार्मिक पर्यटन खेलकूद आदिशामिल हो सकते है।
  • सूचना और प्रसारण मंत्रालय के समुदाय रेडियो कार्यक्रमों/योजनाओं में सहभागिता हेतु वित्तीय सहायता प्रदान करना।
  • विकलांग व्यक्तियों के आर्थिक सशक्तिकरणजैसे जॉब मेलों, अभियानों, कौशल विकास पर जागरूकता इत्यादि हेतु गतिविधियों को बढ़ाना।
  • सार्वभौमिक सुगम्यता के बारे में 

अंतिम नवीनीकृत : 22-02-2016